सूर्य ग्रहण 2021 : सूर्य ग्रहण कब लगेगा व भारत में किन-किन जगह पर दिखेगा

सूर्य ग्रहण, 4 दिसंबर 2021: सूर्य ग्रहण कब लगेंगे : 4 दिसंबर 2021 को इस साल 10 जून को हुए पिछले वलयाकार सूर्य ग्रहण की तुलना में कुल सूर्य ग्रहण होगा। अफ्रीका, ऑस्ट्रेलिया, दक्षिण अमेरिका और अटलांटिक जैसे देशों में ध्रुवीय ग्रहण दिखाई देगा। भारत में यह ग्रहण नहीं देखा जाएगा। जानिए सब कुछ- तारीख, समय, लाइव स्ट्रीमिंग, शनिवार को होने वाली खगोलीय घटना की क्या करें और क्या न करें।

04 दिसम्बर 2021 सूर्यग्रहण विशेष सूचना

  • पूर्ण सूर्य ग्रहण 4 दिसंबर को सुबह 10:59 बजे से दोपहर 03:07 बजे तक रहेगा
  • यह अफ्रीका, ऑस्ट्रेलिया, दक्षिण अमेरिका और अटलांटिक में दिखाई देगा लेकिन भारत में नहीं
  • सूर्य ग्रहण तब होता है जब चंद्रमा सूर्य और पृथ्वी के बीच से होकर गुजरता है और सूर्य को अवरुद्ध कर देता है

    सूर्य ग्रहण कब लगेगा

    भारतीय मानक समय (IST) के अनुसार, शनिवार को सूर्य ग्रहण सुबह 10:59 बजे शुरू होगा। पूर्ण ग्रहण दोपहर 12:30 बजे से शुरू होगा और अधिकतम ग्रहण दोपहर 1:03 बजे लगेगा। दोपहर 1:33 बजे पूर्ण ग्रहण समाप्त होगा जबकि अपराह्न 3:07 बजे आंशिक सूर्य ग्रहण समाप्त होगा।

    सूर्य ग्रहण 2021

     04 दिसम्बर 2021 का सूर्य ग्रहण

    साल का आखिरी और अंतिम सूर्य ग्रहण 4 दिसंबर, 2021 को लगने वाला है। यह खगोलीय घटना इस साल 10 जून को हुए पिछले वलयाकार सूर्य ग्रहण की तुलना में पूर्ण सूर्य ग्रहण होगा। सूर्य ग्रहण तब होता है जब चंद्रमा सूर्य और पृथ्वी के बीच से गुजरता है और सूर्य को अवरुद्ध कर देता है। दुनिया के कुछ हिस्सों में जो ध्रुवीय ग्रहण देखेंगे, उनमें अफ्रीका, ऑस्ट्रेलिया, दक्षिण अमेरिका और अटलांटिक जैसे देश शामिल हैं। भारत में यह ग्रहण नहीं देखा जाएगा

    भारतीय मानक समय (IST) के अनुसार, शनिवार को सूर्य ग्रहण सुबह 10:59 बजे शुरू होगा। पूर्ण ग्रहण दोपहर 12:30 बजे से शुरू होगा और अधिकतम ग्रहण दोपहर 1:03 बजे लगेगा। दोपहर 1:33 बजे पूर्ण ग्रहण समाप्त होगा जबकि अपराह्न 3:07 बजे आंशिक सूर्य ग्रहण समाप्त होगा। कुल मिलाकर, यह 4 घंटे 8 मिनट तक चलेगा।

    Read More >> सूर्य ग्रहण 2021


    किन-किन जगहों पर दिखेगा सूर्य ग्रहण 2021

    इन जगहों पर दिखेगा सूर्य ग्रहण 2021 : पूर्ण सूर्य ग्रहण अंटार्कटिका के अलावा केवल दक्षिण अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया, दक्षिण अफ्रीका और दक्षिणी अटलांटिक के देशों में दिखाई देगा। भारत में यह सूर्य ग्रहण इस बार नहीं दिखेगा।


    सूर्य ग्रहण 2021 दिनांक और समय

    आज का सूर्य ग्रहण 4 दिसंबर (शनिवार) को लगेगा। यह सुबह 10:59 बजे शुरू होगा और दोपहर 03:07 बजे तक चलेगा।

    सूर्य ग्रहण 2021 को कैसे देख?

    4 दिसंबर के सूर्य ग्रहण को नासा के लाइव प्रसारण के माध्यम से हानिरहित तरीके से देखा जा सकता है जो अंटार्कटिका में यूनियन ग्लेशियर से दृश्य दिखाएगा। इस अवसर का नासा के यूट्यूब चैनल पर सीधा प्रसारण किया जाएगा।

    Read More >> surya grahan 2021

    सूर्य ग्रहण किसे कहते है?

    श्री गणेश जी और श्री के बीच में चंद्रमा जाता है और चंद्रमा के आने की वजह से सूर्य का प्रकाश पृथ्वी तक नहीं पहुंच पाता उस स्थिति को सूर्यग्रहण कहते हैं जैसा कि हम जानते हैं कि पृथ्वी सूर्य के चारों ओर परिभ्रमण कर रहे परिक्रमण कर रही है और चंद्रमा पृथ्वी के चारों ओर परिक्रमण कर रहा है तो एक ऐसी स्थिति होती है जब चंद्रमा सूर्य के सूर्य को ढक लेता है और उस वजह से सर का प्रकाश कुछ समय के लिए प्रति तक पहुंच पाता है तो जिस स्थान पर सूर्य का प्रकाश नहीं पहुंच पाता है उसी स्थान पर में सूर्यग्रहण दिखाई देता है, सूर्य ग्रहण कहलाता है |

    नासा के अनुसार सूर्य ग्रहण क्या है ?

    नासा के अनुसार, ‘सूर्य ग्रहण तब होता है जब चंद्रमा सूर्य और पृथ्वी के बीच आ जाता है, पृथ्वी पर छाया डालता है, कुछ क्षेत्रों में सूर्य के प्रकाश को पूरी तरह या आंशिक रूप से अवरुद्ध करता है। कुल सूर्य ग्रहण होने के लिए, सूर्य, चंद्रमा, और पृथ्वी एक सीधी रेखा में होनी चाहिए।

    सूर्य ग्रहण 2021 में क्या करें और क्या न करें?

    हिंदू धर्म के अनुसार सूर्य ग्रहण के दौरान लोग कुछ नियमों का पालन करते हैं। कई लोग ग्रहण के दौरान किसी नुकीली चीज का इस्तेमाल नहीं करते हैं जबकि कई लोग सूर्य ग्रहण के दौरान खाना पसंद नहीं करते हैं। हालांकि, ऐसा कहा जाता है कि ग्रहण से कम से कम दो घंटे पहले भोजन करना चाहिए। गर्भवती महिलाओं को सूर्य ग्रहण के दौरान घर से बाहर नहीं निकलने की सलाह दी जाती है। सूतक काल में इन्हें घर के अंदर ही रहना चाहिए। ऐसा करने से सूर्य की हानिकारक किरणें महिला और गर्भस्थ शिशु को प्रभावित नहीं करती हैं।

    ग्रहण के समय सूर्य को सीधे देखने से बचना चाहिए। यह इस समय सूर्य की किरणों की तीव्रता के कारण होता है जो आंखों में कोशिकाओं को नुकसान पहुंचा सकता है जिससे रेटिना जल सकता है। ग्रहण के समय स्नान न करें। ग्रहण समाप्त होने के बाद स्नान करें।

    सूर्य ग्रहण कब होता है

    जब चंद्रमा सूर्य और पृथ्वी के बीच आ जाता है और हमारे गृह ग्रह पर अपनी छाया डालता है। एक छाया दो घटकों से बनी होती है—एक गहरा आंतरिक घेरा जहां सभी सूर्य के प्रकाश को अवरुद्ध कर दिया जाता है, जिसे गर्भा कहा जाता है; और छाया का एक बाहरी क्षेत्र जो सूर्य के प्रकाश के केवल एक हिस्से को अवरुद्ध करता है, जिसे पेनम्ब्रा कहा जाता है। सूर्य के पूर्ण ग्रहण के दौरान, चंद्रमा पूरे सौर डिस्क को कवर करता है, जबकि आंशिक और कुंडलाकार सूर्य ग्रहण में, चंद्रमा सूर्य के केवल एक हिस्से को अवरुद्ध करता है।

    दिसम्बर 2021 सूर्य ग्रहण के बारे में नासा की प्रतिक्रिया

    नासा एक अमेरिकन स्पेस एजेंसी है, नासा के अनुसार दिसम्बर 2021 में होने वाले सूर्य ग्रहण के बारे में निम्न बाते कही – पिछली रात के ग्रहण में चंद्रमा लाल दिख रहा था, क्योंकि जैसे ही पृथ्वी चंद्रमा और सूर्य के बीच से गुजरी, सूर्य का प्रकाश पृथ्वी के वायुमंडल से छनकर नीला प्रकाश बिखेर रहा था और केवल लाल प्रकाश को चंद्रमा तक पहुंचने दे रहा था।या जैसा कि हम इसे कॉल करना पसंद करते हैं: वायुमंडलीय बिखराव (पृथ्वी का संस्करण)


    किन – किन जगहों/राज्यों में सूर्य ग्रहण लगेगा ?

    राजस्थान में सूर्य ग्रहण 10:14 पर लगेगा, दिल्ली में सूर्य ग्रहण 10:20 पर लगेगा, मुंबई में सूर्य ग्रहण 10:00 पर लगेगा, आंध्र प्रदेश में सूर्य ग्रहण 10:14 पर लगेगा, अरुणाचल में सूर्य ग्रहण 11:03 पर लगेगा, असम में सूर्य ग्रहण 10:50 पर लगेगा, बिहार में सूर्य ग्रहण 10:37 पर लगेगा, छत्तीसगढ़ में सूर्य ग्रहण 10:24 पर लगेगा, गोवा में सूर्य ग्रहण 10:01 पर लगेगा, गुजरात में सूर्य ग्रहण 10:04 पर लगेगा, हरियाणा में सूर्य ग्रहण 10:22 पर लगेगा,जम्मू-कश्मीर में सूर्य ग्रहण 10:24 पर लगेगा, झारखण्ड में सूर्य ग्रहण 10:36 पर लगेगा, कर्नाटक में सूर्य ग्रहण 10:12 पर लगेगा. तथा एनी सभी राज्यों का सूर्य ग्रहण निम्न राज्यों की सूचि डी गई है – 

    क्र.स.

    राज्य

    राजधानी

    स्टार्ट

    मैक्स.

    एंड्स

    1.

    आंध्रा प्रदेश

    हेदराबाद

    10:14

    11:55

    13:44

    2.

    अरुणाचल प्रदेश

    ईटानगर

    11:03

    12:51

    14:27

    3.

    असम

    दिसपुर

    10:57

    12:46

    14:24

    4.

    बिहार

    पटना

    10:37

    12:25

    14:09

    5.

    छत्तीसगढ़

    रायपुर

    10:24

    12:10

    13:58

    6.

    दिल्ली

     

    10:20

    12:01

    13:48

    7.

    गोवा

    पणजी

    10:01

    11:36

    13:24

    8.

    गुजरात

    गांधीनगर

    10:04

    11:42

    13:32

    9.

    हरियाणा

    चंडीगढ़

    10:22

    12:02

    13:47

    10.

    हिमाचल प्रदेश

    शिमला

    10:23

    12:03

    13:48

    11.

    जम्मू-कश्मीर

    श्रीनगर

    10:24

    11:59

    13:40

    12.

    झारखण्ड

    रांची

    10:36

    12:25

    14:09

    13.

    कर्नाटक

    बेंगलोर

    10:12

    11:47

    13:31

    14.

    केरल

    तिरुवंतपुरम

    10:14

    11:40

    13:15

    15.

    मध्यप्रदेश

    भोपाल

    10:14

    11:57

    13:47

    16.

    महारास्ट्र

    मुंबई

    10:00

    11:37

    13:27

    17.

    मणिपुर

    इम्फाल

    11:04

    12:53

    14:28

    18.

    मेघालय

    शिलोंग

    10:57

    12:46

    14:24

    19.

    मिजोरम

    मिजोरम

    11:00

    12:49

    14:26

    20.

    नागालेंड

    कोहिमा

    11:04

    12:53

    14:28

    21.

    उडीषा

    bhuvneshavri

    10:38

    12:26

    14:09

    22.

    पंजाब

    चंडीगढ़

    10:22

    12:02

    13:47

    23.

    राजस्थान

    जयपुर

    10:14

    11:55

    13:44

    24.

    सिक्किम

    गंगटोक

    10:48

    12:45

    14:17

    25.

    तमिलनाडु

    चेन्नई

    10:22

    12:11

    13:41

    26.

    तेलंगाना

    हेदराबाद

    10:14

    12:05

    13:44

    27.

    त्रिपुरा

    अगरतला

    10:55

    12:35

    14:23

    28.

    उत्तर प्रदेश

    लखनऊ

    10:26

    12:11

    13:58

    29.

    उत्तराखंड

    देहरादून

    10:24

    12:05

    13:50

    30.

    पश्चिम बंगाल

    कोल्कता

    10:46

    12:35

    14:17

     

    The Author

    Chirag Suthar

    Leave a Reply

    Your email address will not be published.